Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

छुपे एहसास जो तुम्हारे लिये है

छुपे एहसास जो तुम्हारे लिये है

5 mins 8.1K 5 mins 8.1K

रात के अंधेरे में चमकते तारो के बीच एक चाँद जिसको निहारती हुई मैं कुछ बाते कहना चाहती हूँ उस शख्श से जिससे बहुत प्यार करती हूँ मैं।

पता है जान, तुम्हे जाने - अनजाने दुःख तो बहुत देती हूँ। जानती हूं कि तुम्हे उस दशक का प्यार पसन्द है जिसमे हीरो - हीरोइन दोनो एक दूसरे को चाहते तो है मगर दुनिया से छुप कर।

एक दूसरे को निहारते तो है मगर दुनिया समाज से छुप कर । घरवालों को पता न चले। कि हम दोनों क्या है एक दूसरे के मुझे पता है कि रात में कभी कभी कुछ ज्यादा रोमांटिक बाते करती हूँ तुमसे । मगर राज यकीन मानो मेरे दिल मे सिर्फ तुम्हारे जिस्म को पाने या किसी स्वार्थवश तुमसे प्यार नही करती। मेरी जिंदगी में तुम वो पहले और आखिरी इंसान हो जिसने मुझे 2 साल में शायद ही कभी छुआ हो हां याद है मुझे जब तुमको पहली बार छुआ था मैने । और आज तक वो एहसास मेरे हाथों को महसूस होता है ।

राज, भले ही तुम मुझसे इतनी दूर हो मग़र तुम जब से मेरी ज़िंदगी मे आये मैने कभी किसी लड़के की तरफ देखना तो दूर कभी किसी और के बारे में सोचा भी नही ।पता है कि तुम हर रोज सोचते होंगे कि जरूर किसी ज़रूरत को पूरा करने के लिये मैं आज तक तुम्हारे साथ हूँ लेकिन सच नही है ये। तुम्हारी आँखों मे जो सच्चाई देखी बस उस वजह से रुके है हम।

पता है, तुमसे पहले जो इंसान था मेरी ज़िंदगी मे उसकी ज़िन्दगी में सिर्फ नज़दीकियों की एहमियत थी। मुझे भी कभी कभी तुम्हारी बहुत याद आती है । तुम मुझसे नही बल्कि मेरी रूह से जुड़ चुके हो जानते हैं कि जो फैसला होगा जिसमें भले ही हम दूर हो जाये मगर राज एक बात याद रखना इस पागल सी लड़की ने सिर्फ तुम्हारे ख्वाब देखे हैं। भले ही हम कितना भी लड़े हो एक दूसरे से मगर यकीन करो 2 सालों में सिर्फ तुम्हे ही चाहा और ज़िन्दगी भर चाहेंगे सिर्फ तुम्हे ही। पता है जब 11 जुलाई 2017 को हमारे बीच जो गलतफहमियां हुई । उनकी वजह से आज भी मुझे तुम्हारी वो सिसकियां याद आती है। आज तक कोई मेरे लिये रोया नही। और मुझे बहुत दुःख हुआ ।

राज, एक बात बताओ क्यूँ रोये थे उस दिन ? क्या मेरे प्यार के लिये या फिर मैं धोखेबाज़ हूँ ये सोचकर ? सोचो जब हमने धोखा नही दिया था तब तुम इतना रोये । फिर ये क्यूँ नही सोचते कि मैं भी तो तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। कैसे भूल जाऊंगी ये सब । अब तो मेरी सुबह की शुरुआत तुमको गुड मॉर्निंग बोलके और रात में बात करने के बाद गुड नाईट बोलकर । और पता है जब तक तुम खाना नही कहते तब तक हमको भी भूख नही लगती। दिन से लेकर रात तक का सफर तुम्हारे साथ शुरू होता है कैसे भूल जाऊंगी तुम्हे । तुम कहते हो कि किसी के जाने से ज़िन्दगी नही रुक जाती। तो सुन लो हमारी सांसे रुक जाएंगी । जब जिंदगी ही दूर हो जाये तो क्या करेंगे ऐसी सांसो का कोई मतलब नही यार । तुमको पता है घरवालों तक से लड़ बैठते हैं बात जब तुम्हारी होती है। सब शक करते हैं कि हमारे बीच कुछ है । मगर वो ये नही समझ सकते कि कुछ नही बहुत कुछ है रूह से रूह का रिश्ता है तुमसे । लेकिन सब को लगता है कि मैं ये सब पागलपन में कर रही हूँ। अब तुम्हारे प्यार में पागल होना भी मंजूर है ।

राज, पता है जब भी किसी प्रेमी युगल को शादी के बंधन में बंधते देखती हूँ तो मेरा भी मन करता है कि तुम्हारी अर्धांगिनी बनके रहूँ। मुझे भी सात फेरे लेने है तुम्हारे साथ । सब शामिल हो हमारी शादी में । तुम्हे और तुम्हारे घरवालों को अपना परिवार समझ लिया है मग़र पता नही कमी कहाँ रह जाती है कि जब हकीकत में आती हूँ तो लगता है कि सिर्फ ख्याली बाते है। तुम समझ नही सकते कितना प्यार करते हैं तुमसे कभी मेरे हाथों को थामकर अपने काम से फुर्सत पाकर कुछ देर मेरे पास बैठे एहसास होगा कि ये लड़की तुमसे कितना प्यार करती है। और तुम्हारी बहुत रेस्पेक्ट भी बहुत करती है। माना कभी कभी मजाक कर देती हूँ मगर यकीन करो मेरा ये उद्देश्य ये कतई नही होता कि तुमको दुःख पहुँचने की कोशिश करूँ । हम मिले थे 31-1-2016 में और आज 13-12-2017 रात के 1 बज गया है मग़र यार नींद ही नही आती पता नही क्या हो गया है। सुनो कभी कोई गलती हो जाये तो अपना समझ कर डाँट देना। बस कभी दूर मत जाना मुझसे। अब सोने जा वक़्त हो गया है । नींद भी हल्की - हल्की - सी आ रही है। मानती हूँ कि आज कल सच्ची मोहब्बत की कद्र तब होती है जब कोई दुनिया को छोड़कर चला जाता है । मैं जब जाऊंगी इस दुनिया से तो दुख तो होगा बहुत मुझे मगर खुशी इस बात की होगी कि ऊपर जाकर सुकून से अपने राज को देखूँगी । जहाँ न कोई रोकटोक न कोई कुछ कहेगा।

बस इतना याद रखना राज कि मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं। और ये सांसे और ये जिस्म और ये पागल सी लड़की तुम्हारी है कर्तव्यो को निभाना गलत नही हैं ,जानती हूँ कि तुमको तो सांस तक लेने की फुर्सत नही है काम का बोझ और अपनों की ज़िम्मेदारी भी निभानी है। पापा के देहांत के बाद मां और भाई बहनों के लिये तुम्हारे जो फर्ज है निभाना चाहिये । और मैं बहुत खुश हूँ कि भले ही मैं कभी तुम्हारी अर्धांगिनी न बन पाऊं मग़र तुम्हारी बहुत सी यादें और बिताए हुए पल हमेश मेरे दिल ने सहेज कर रखे रहूँगी मैं। और सुनो तुम बहुत ही अच्छे हो तुम्हारी सादगी और सच्चाई देख कर ही तो फिदा हो गए हम। हम तुम्हारे साथ पूरी जिंदगी जीना चाहते हैं । हर सुबह और रात तुम्हारे साथ गुज़ारना चाहते हैं। ये ज़िन्दगी तुम्हारे नाम कर चुके हैं । और अब आंखे बन्द होने लगी हैं नींद चरम सीमा पर है ।

जल्द ही नए एहसास और अपनी पूरी कहानी कि कैसे मिले हम , और भी बहुत कुछ...।


Rate this content
Log in

More hindi story from आकांक्षा पाण्डेय

Similar hindi story from Romance