Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

उम्मीद की नई किरण

उम्मीद की नई किरण

3 mins 14.8K 3 mins 14.8K

सोना एक स्कूल में पढ़ाती थी। घर के कामो के लिए उसने पास की हो झुग्गी झोपड़ी में रहने वाली कांता को रख लिया था कांता का पति पास की ही फैक्ट्री में लेबर था जो पैसा मिलता उससे किशोर शराब पी जाता। कांता की 2 बेटियां थी शोभा और सुंदरी । किशोर को सिवाय शराब के कुछ नही दिखता।कांता भले ही खुद अनपढ़ थी मगर वो अपनी बेटियों को पढ़ा लिखा कर किसी लायक बनाना चाहती थी।दिन रात मेहनत करके जो पैसे मिलते उनको एक करके जोड़ती ।ताकि उसकी बेटियां भी स्कूल जाकर पढ़ सके। कांता जहाँ रहती थी वहां का माहौल बेहद ही गन्दा था यूँ कहे तो सिवाय गंदगी के वहाँ कुछ नही था और ऊपर से अशिक्षित लोग जिनका जीवन सिर्फ मजदूरी करके पैसा कमाना और उस पैसे से शराब और खाने का ही प्रबंध कर पाते थे वो लोग, तो बस्ती के लोग अपनी बच्चियो को पढ़ने के लिए न भेज कर कुछ ऐसा काम करते थे जिसको सुनकर शर्म आती थी कि कोई अपनी बेटियों से भी ऐसा काम करवा सकता है। और वो भी सिर्फ चंद पैसों के लिये।बस यही समाज था कांता का।जिससे वो बाहर निकलना चाहती थी। दोनो बेटियों के बारे में सोचकर न जाने क्यूँ कभी कभी कांता कुछ ज्यादा ही परेशान रहती। उस झुग्गी के पास जो फैक्ट्री थी वहाँ का जो ठेकेदार था जो इन मजदूरों को काम दिलाता उसके बदले में उसको उन मजदूरों की लड़कियां या उनकी घरवालियो को उसका गुलाम बनकर रहना पड़ता। ये तो कांता की किस्मत अच्छी थी कि सर्व शिक्षा अभियान में झुग्गी के गरीब बच्चियो को भी आगे आने के लिए प्रयासरत करने वाली सोना से मुलाकात हो गयी उसकी। और उसने उसपर भरोसा किया और उसको अपने घर मे काम पर रख लिया। दोनो बच्चियों को स्कूल भेजने लगी थी कांता। किशोर ने विरोध भी किया मगर कहते हैं कि जब एक औरत कुछ करने की ठान ले तो वो कुछ भी कर सकती है। झुग्गी की औरते भी जलती थी कांता से । क्योंकि कांता सब कुछ सह सकती थी मगर अपनी इज्जत से खिलवाड़ नही करने दे सकती थी। ठेकेदार की नज़र बहुत दिन से थी कांता पर मगर कभी मौका ही नही मिलता उसको ।शाम हो गयी थी मौसम भी कुछ ठीक नही था। तेज बादल घिर गये थे।सोना के घर से कांता भी सब काम निपटा कर घर की तरफ आ रही थी कि अचानक उसने देखा कि ठेकेदार किशोर से कुछ बाते कर रहा है। शायद कोई साज़िश जिसको भांप लिया था कांता ने। तेज कदमो से भागी वो अनजाने डर ने कांता को अंदर से झकझोर दिया था। जल्दी जल्दी से कुछ जरूरी सामान इकठ्ठा किया और वो पैसे भी और दोनो बेटियों को जगा कर चुप चाप दूसरे रास्ते से निकल गयी।और सोना के घर गयी और सब हाल बताया। सोना गम्भीर सोच में थी कि अचानक एक रास्ता दिखा एक बचपन की दोस्त जिसकी मां को एक घर मे की देखरेख करने वाली तलाश थी वो दोस्त दूसरे शहर में रहती थी। रात में ही गाड़ी निकाल कर तीनो को बैठा कर वो शिवानी के घर गई और सब हाल बताया सरोज आंटी ने उनको अपने घर मे रख लिया और सोना को निश्चिंत रहने को बोला। सोना बहुत खुश थी क्योंकि उसने इंसान होने का फर्ज अदा किया। आज 15 साल बाद शोभा डॉक्टर शोभा बन गयी थी और सुंदरी का नाम बदल कर शिप्रा रख दिया था कांता ने।शिप्रा एम. बीए. करके जॉब कर रही थी। उनकी जिंदगी बिलकुल बदल गयी थी। कांता बहुत खुश थी कि उसने अपनी बेटियों को उस भेड़िये ठेकेदार से जो बचा लिया था। सोना उनकी एक उम्मीद की किरण बनकर आयी और जिंदगी रोशन कर दी।


Rate this content
Log in

More hindi story from आकांक्षा पाण्डेय

Similar hindi story from Drama