Uma Vaishnav

Horror


3.9  

Uma Vaishnav

Horror


ब्लडी मैरी... आयेगी 👽

ब्लडी मैरी... आयेगी 👽

4 mins 11.8K 4 mins 11.8K

रीना, संजना, दीपा और पूजा चारों बहुत अच्छी दोस्त हैं, हमेशा साथ साथ ही रहती है,एक दिन भी ऎसा नही होता था कि वे मिले बिना नहीं रहती। लेकिन जब से लॉक डाउन शुरू हुआ। चारो घर में रह कर पक्क गई लेकिन करे तो भी क्या करें। मगर फिर भी वे किसी न किसी तरह बातें करती। कभी विडियो चैट से तो कभी चैटिंग और कभी घंटों वॉइस चैट।                    

 रीना, संजना और दीपा तीनों का ज्यादा वक्त सोसल मीडिया पर ही बितता था। लेकिन पूजा को हॉरर फिल्में देखने और किताबें पढ़ना और हर रोज कुछ नया करने में मजा आता। एक दिन उसने यूट्यूब पर एक विडियो देखा जो की ब्लडी मैरी के बारे में था। उसने और कई जगह पर भी ब्लडी मैरी के बारे में पढ़ा और सुना था। उसने अपनी बाकी फ्रेंड्स यानी दीपा, संजना और रीना को ब्लॉड़ी मैरी के बारे में बताया। चारों विडियो चैट पर कॉन्फ्रेंस में बात कर रही थी। पूजा ने कहाना शुरू किया....

पूजा :- "हेय फ़्रेंड्स,... कुछ नया हो जाये...... लॉक डाउन में पक्क गये हैं,... कुछ नया... इंट्रेस्टिंग करते हैं.. बोलो तुम लोग क्या कहते हो।"

तभी रीना बोली.. रीना :- "क्या.. कर सकते हैं। कही बाहर तो आ जा सकते हैं, अब घर में बैठ कर... क्या इंट्रेस्टिंग कर सकते हैं।"

दीपा :- "और हाँ... प्लीज... विडियो मिक्सईंग के बारे में मत कहना.... बहुत कॉमन हो गया है... सभी यहीं कर रहे हैं।

संजना :- "और.. प्लीज... कोई डिसीज का तो बिल्कुल मत बोलना...."

पूजा :- "अरे नहीं.... ये सब नहीं.. इससे भी अलग... कुछ इंट्रेस्टिंग... नया.. बोलो तुम.. तैयार हो।"

रीना :- "अब तुम बताओ गी भी कि आखिर करना क्या है??" सभी ने पूजा से एक साथ सवाल किया।

पूजा :- "तुमने.. ब्लडी मैरी के बारे में सुना है?"

रीना :- 'नहीं"

रंजना :- "हां.. मैंने सुना हैं... वही ना.. जिसके बारे में कहा जाता है कि... यदि रात को 2 से 3 बजे के बीच अंधेरे में आने के सामने खड़े रह कर तीन बार.. उस का नाम.. पुकारने पर.. वो सामने आ जाती है"

पूजा :- 'हाँ.. वही.।"

दीपा :- 'वॉट गाइज... ये सब बकवास है.. ऎसा कुछ नहीं होता है।'

पूजा :- 'अब ये तो पता नहीं ऎसा होता है कि नहीं... पर हम ट्राय करके देख.. सकते हैं।"

रीना :- "नो.. नो... हम ऎसा कुछ नहीं करेगें।"

दीपा हँसते हुए :- "क्यूँ तुझे डर लग रहा है.. पूजा और दीपा दोनों एक साथ हसने लगती है।"

संजना :- "सुनों.. सुनो.. गाइस.... वैसे.. हैं तो इंट्रेस्टिंग.. बट.. रीना का कहना भी गलत नहीं है.... हमें ये सब खुद पर ट्राय नहीं करना चाहिए। कही लेने के देने नहीं पड़ जाये"।

पूजा :- "अरे गइस... तुम लोग.. यूहीं डर रहे हो। ऎसा करते हैं। जब हम रात को उसे बुलायेगें तो सभी विडियो चैट के जरिये एक दूसरे से जुड़े रहेगें... ओके।" सभी मान जाते हैं पर रीना थोडी डरी हुई होती है।

पूजा :- 'कॉमऑन... रीना.. तू बिल्कुल डर मत... हम सब है ना... ओके... तो आज रात ठीक.. 3 बजे हम सब अपने अपने कमरे में ऑनलाइन आकर... अंधेरे में आइने के सामने ब्लडी मैरी का नाम पुकारे गे... देखते हैं.. क्या होता है।"

जैसा कि चारों ने तय किया था। ठीक रात को 3 बजे जब चारों के परिवार वाले सो रहे थे। वो चारों ऑनलाइन आगई और एक दूसरे को तैयार होने के लिए कहा।

पूजा.. "सभी अपना अपना मोबाइल... ऎसी जगह सेट कर दे जहां से हमें आईना और अपनी दोनों की पिक बरा बार दिखाई दे। फिर रूम की लाइट बंद कर दें। और आईने के सामने आ कर ब्लडी मैरी को पूकरेगें। ओके.... सब रेडी हैं ना....?"

रीना.... "पूजा... यार एक बार फिर सोच ले।.. कही.. कुछ उल्टा सीधा ना.. हो जाये ।"

संजना.... "अब जो भी होगा देखा जायेगा।.. चलो.. गाइज अब सब लाइटस ऑफ करों।"

सबने लाइट ऑफ कर दी रीना बहुत डरी हुई थी उसके माथे पर पसीना आ रहा था। चारों अपने घर के आईने के सामने आ गये। और पहली बार ब्लडी मैरी... पुकारा.. सब साथ में... ब्लडी मैरी... सामने आओ पूरे कमरे में सनाटा था। कहीं से कोई आवाज नहीं आ रही थी। कुछ देर बाद.. सभी नॉर्मल हो गये।.... पूजा ने कहा.." देखा गाइज कुछ नहीं हुआ ना"... तभी दीपा बोली..... "अभी एक बार ही पुकारा है चलो अब दूसरी बार पुकारते हैं।" सभी साथ में.. ब्लडी मैरी.... सामने आओ रूम में अभी भी सनाटा था। तभी अचानक जोर जोर से हवा चलने लगी। पूजा बोली... "गाइज डरना मत.. सिर्फ हवा.. चल रही है..." चालों अब आखिरी बार फिर से पुकारते हैं, लेकिन अब अंदर से तीनों बहुत डरी हुई थी।कंपकंपाते होठों से.... ब.. ब.. ब.. ब्लडी मैरी.. सससस सामने.. आआआ आओ। कुछ देर सनाटे के... अचानक... पूरे कमरे की चीजें.. इधर - उधर होने लगी और सभी का सम्पर्क भी टूट गया था। चारों बहुत डर गई थी। चिल्लाने की कोशिश कर रही थी लेकिन आवाज नहीं निकल रही थी। चारों ने आईने में देखा... तो एक बहुत ही डरवानी डायन... जिसकी आँखों से खून बह रहा था.. उस आइने में थी।  चारों उसे देख बेहोश हो जाती हैं, सुबह चारों अपने अपने रूम में बेहाल अवस्था में मिली। चारो अपने दिमाग का संतुलन खो चुकी थी।


Rate this content
Log in

More hindi story from Uma Vaishnav

Similar hindi story from Horror