Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Indu Tiwari

Romance


4  

Indu Tiwari

Romance


यादें बेशुमार

यादें बेशुमार

1 min 35 1 min 35

जो भी मिलता है सिरहाने रख लेती हूँ

कभी कुछ खुशी के पल


तो कभी कुछ उलझी हुई-सी यादें

कभी तुझसे हुई नोंक-झोंक


तो कभी कुछ मीठी-सी बातें

कभी तेरे साथ हुई लम्बी प्यार की बातें


तो कभी अरसों से न हुई मुलाकातें

जो भी मिलता है सिरहाने रख लेती हूँ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Indu Tiwari

Similar hindi poem from Romance