End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

नन्द कुमार शुक्ल

Abstract


3  

नन्द कुमार शुक्ल

Abstract


तू ही सच्चा पिता है हमारा

तू ही सच्चा पिता है हमारा

1 min 390 1 min 390

तू ही सच्चा पिता है हमारा, 

तू ही दिलबर सनम जां से प्यारा ।

हो के तुमसे जुदा मेरे हमदम, 

कुछ न अस्तित्व होगा हमारा ।

जग की अनजान राहों पे भगवन, 

कर पकड कर दिया है सहारा ।

तेरे अनगिनत है उपकार हम पर, 

हमसे करना कभी ना किनारा ।

छूट जाए जगत कोई हो शत्रु पर, 

तुम से छूटे न रिश्ता हमारा ।

संग तेरा रहे हस के दुख सुख सहू, 

है नही मेरा तुम बिन गुजारा ।

तू ही सच्चा पिता है हमारा, 

तू ही दिलबर सनम जां से प्यारा ।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from नन्द कुमार शुक्ल

Similar hindi poem from Abstract