कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : inspirational

छिपा है आनंद संतोष में, भोली-सी माँ के आगोश read more

1     280    49    123

माँ की साजिश
© Antariksha Saha

Children Stories Inspirational

माँ भूख लगी है, खुद एक रोटी खाकर, मुझे भूख नहीं है कह कर सो जाती read more

1     69    1    3325

बरगद होने के बाद तुम समझोगे प्रकृति और माँ read more

1     456    43    69

Amazon best reads for August !!

गम मुझको हैं छू नहीं पाते, आँचल जब तेरा पाता read more

1     104    0    2716

खुद तकलीफ़ सहकर भी सदा ही वह हँसती read more

1     77    3    1970

पिता
© आकिब जावेद

Children Stories Inspirational

आँगन में बाबुल के हम खिले बढ़े, रोता हुआ ही बाबुल विदा भी read more

1     103    2    2710

जो ऊपर गतिमय भीतर शांत रहेगा वहीं समंदर कहलाएगा read more

5     26    1    1174

आश्रय
© दयाल शरण

Children Stories Inspirational

वे माँ-बाप थे जो अब तस्वीरों में चुप हैं हम कलेजे थे उनके, वे हमें लख्ते-जिगर कहते read more

2     76    1    839

आलसी हो तुम
© Kawaljeet Gill

Children Stories Inspirational

अब तो वक्त की कद्र करना सीख read more

1     48    0    1886

बचपन
© Hemant Mohan

Children Stories Inspirational

खुशियाँ मिलती थी आने दो आने में, मोटू-पतलू की बातें बतियाने read more

1     71    2    3892

चलो ना ! ले चलते हैं अपने साथ प्यारा-सा ये read more

1     238    13    189

एक सैनिक अपने कर्मफल के लिये, स्वर्ग के प्रवेश द्वार पर खड़ा था, मरणोपरांत अंतिम read more

2     16.2K    611    5

माँ तेरी बेटी हूँ, मैं अाकिंचन क्या दे सकती हूँ तुझे, मालूम read more

1     8.3K    106    139

चिंता को तू कर दे टाटा, मन में अलख जगा ले, खुद-सा साथी नहीं मिलेगा, खुद से प्रीत लगा read more

2     14.8K    550    9

यह कविता जीवन में आगे बढ़ने के लिये अथाग महेनत का महत्व समजाती है read more

2     14.1K    535    7

Amazon best reads for August !!

आदि है, आज है, भूत-भव का अंतराल है; भुवन की रंग-साज है, हृदय सिंधु विशाल read more

1     249    28    166

एक वक़्त था जब सुनते थे, अब सपने देखना बंद करो,अब कहा जाता है सपने, नहीं देखोगे तो read more

1     14.7K    531    11

मृत्यु संपूर्ण और शाश्वत है । यह कविता बताती है कि जन्म की तरह ही मृत्यु का भी उत्सव read more

2     14.1K    534    10

बात अब भी लोग फ़रिश्तों ही सी करते हैं रूह को क़ैद रखा है जिन्होंने सदियों read more

1     581    53    171

शौर्य
© Shakuntla Agarwal

Action Inspirational

सोये शेरों को जगाते हैं read more

1     558    66    269

गुल्लकें
© Sandeep Gupta

Children Inspirational

ख़ुद टूट कर भी, दिलों को जोड़ने का, जिगर रखती हैं read more

1     1.6K    29    321

दूर क्यों तलाश उसकी, जो बिलकुल पास है, ख़ुशी तेरे पास खड़ी है, फिर भी तू निराश read more

1     14.7K    525    18

दूसरों के काम जब आओगी तुम तो चाँद जैसा read more

1     7.1K    47    372

युवा
© NIYATI PATHAK

Classics Inspirational

नफरतों के दाएरे, छोड़, आ गए जोड़ने आज हर मन read more

1     317    25    208

क्या कोई आएगा दुख को हमारे समझ पाएगा। नया दौर है आया, एक नयी दिशा read more

2     1.1K    48    12

तुझसे ही तो प्रेरणा पाता है समाज, ज़िंदा है ज़िन्दगी, हे मज़दूर read more

1     714    67    13

दो देशों की सीमा पर बसे गाँव में रहने वाले लोगों का read more

2     13.8K    499    19

शान-ऐ-हिन्द झन्डे को मरते दम तक झुकने न read more

1     335    31    487

तुम्हें जगना होगा, एक बार फिर, एक बेहतर भविष्य के read more

2     13.8K    10    1864

'ये ज़िन्दगी ख़ुशी और गम का किस्सा है, मुश्किलें आगे बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा read more

1     13.8K    532    39