कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : abstract

शाम को रोज़ इक्कट्ठा हो जाना चार बच्चे मिलते ही टीचर बन जाना, पापा को अपना घोड़ा read more

1     282    2    2719

लॉर्ड गणेशा
© Payal Khekde

Children Stories Abstract

जिसमे एक प्राइमरी बालक लॉर्ड गणेशा का पोशाक पहनकर, उनका स्वरूप बनकर लोगो के सामने। read more

1     52    2    4827

मसलों को मैं तेरे सुलझाता रहूँगा, कर्मठता की राह पर चलाता read more

1     1.6K    71    15

लबों से उफ्फ ना करती थी, आँखें तूने उसकी कभी पढ़ी न read more

1     2.1K    91    6

वो सिरहाने पड़ा सपना यह बड़ा शहर भी क्या चीज़ है ना read more

2     207    52    23

सब फुर्सत में हैं पर वक़्त किसी के पास read more

1     349    68    30

बोला औकात मत भूलो बुझा दूँगा पानी पर सवार होके read more

1     793    59    43

हर तरफ टूट-टूट कर गिर रहा है वक्त का तंत्र और मुझे कविताओं की चिंता read more

1     268    50    44

इत्मिनान में कुछ वक़्त इस खामोशी को देना लाख़ों पन्नों की रचनाएं नजर read more

1     473    58    49

“फूट डालो और राज करो “हम ये इजाज़त आख़िर कब तक read more

1     291    62    55

औकात मेरी क्या है कोई मुझे ना read more

1     3.7K    1.1K    57

अगर प्यार इसे कहते हैं तो, “इमोशनल अत्याचार “की परिभाषा क्या read more

1     326    50    71

मैं सदा के लिए निर्मल हो गया हूँ, कि मैं अब कभी भी मलिन न हो read more

1     635    45    72

कर दो न साकार इरादे मेरे मैं दिल से साथ read more

1     252    76    80

हाँ ये सच है मेरी कविता मेरी खुद की परछाई read more

1     431    69    83

इसीलिए मुझसे ही मुझको, कई बार तूने ही मिलवाया read more

2     390    46    95

मुझे महज एक वस्तु मत समझना व्यंग बाणों का घातक प्रहार भी सहती हूँ। खिलौना नही read more

1     484    65    99

अपनी यादों में न बसाना, कोई साथ था वो जाना read more

1     213    57    100

ख्याल अपना-अपना पाने से ज्यादा मज़ा देने में read more

1     399    54    109

इस दुनिया की बातें सुनते उस दुनिया को read more

2     204    51    111

बता दें उन सब को जिनकी वजह से जिन्दगी में भोर read more

1     529    30    115

प्यार महोब्बत गले लगाकर दुनिया में अपना नाम read more

1     305    53    124

जो अकेला रब उसी के, संग रहता है read more

1     264    52    126

आज बेखबर है फिर भी ढूंढते लोगों को साहिल की तलाश read more

1     358    89    128

सच है ये जिंदगी खेल नहीं जिसका किसी से कोई मेल read more

1     314    81    130

क्यों हर वक़्त ये आंखें तुम्हारी नोचती है क्या तुमने बहन बेटी का प्यार नहीं पाया read more

1     332    75    132

प्यार आदर और भाईचारे के पाठ भी इन बंद मुट्ठियां से शुरू होते हैं इन बंद read more

2     432    52    142

एक उम्र बिता दी, उसे समझाने में रिश्ता उसका मेरा कह दो ना करें तकल्लुफ आने का, कि read more

1     396    22    332

थे देशभक्त फिर भी वो सारे, उस जंगल का कानून बड़ा निराला read more

1     374    51    143

बेवफा तुम नहीं, फिर क्यों ये गुमां होता है, बिन आग , कब धुआँ होता read more

1     364    59    148