Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Dr Jogender Singh(jogi)

Abstract

4  

Dr Jogender Singh(jogi)

Abstract

टोटेवाला

टोटेवाला

1 min
36


टोटे उठा कर धीरे से जेब में भरता 

कोने में बैठ पीने के यत्न में।


दहकते अंगारे से बार बार सुलगा 

कश खींचने की कोशिश में,


किस किस की झूठन को प्रेम से होंठों के बीच दबाता

आधी अधूरी खिचड़ी दाड़ी को खुजाता।


उसकी ज़िंदगी की तरह आधी /अधूरी

हाँक कर ले जाना अपना बना कर सवेरे सवेरे।


साँझ को पराया हो जाना

किस यतन से, सब जतन से।


दूसरों की ज़िन्दगी खूबसूरत बनाता रोज़

चुपके चुपके टोटे उठाने वाला कर्मयोगी। 


Rate this content
Log in