Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Prashi Joshi

Inspirational

3  

Prashi Joshi

Inspirational

तो रह लो ना घर में

तो रह लो ना घर में

1 min
62


क्या होगा अब एक बीमारी फैली है शहर में , 

कुछ दिन की ही बात है तो रह लो ना घर में । 


आज दौड़ती भागती ज़िन्दगी में ठहराव आया है , 

जिसका मरहम भी नहीं ऐसा घाव आया है , 

पल पल जाने जा रही सुबह , शाम , दोपहर में , 

कुछ दिन की ही बात है तो रह लो ना घर में । 


क्या कहूं महज़ एक वाइरस या दुश्मन जान का , 

पूरी दुनिया में फैल गया ये वाइरस वुहान का , 

बाहर कहीं ना जाना अभी इस कोरोना के कहर में , 

कुछ दिन की ही बात है तो रह लो ना घर में । 



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational