Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

ज्योति किरण

Inspirational

5.0  

ज्योति किरण

Inspirational

सुँदरतम सौग़ात

सुँदरतम सौग़ात

1 min
113


परंपरा में गूंथ कर,

माथे तिलक लगायें।

मिट्टी मेरे देश की,

संस्कृति का पाठ पढ़ाये।।


गाँव -गाँव में बिखरी है,

सुँदरतम सौग़ात _

देश को सुंदर रखने हेतु,

आओ क़दम बढ़ायें।।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational