Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Rochana Singh

Abstract

2  

Rochana Singh

Abstract

सफ़र

सफ़र

1 min
17


सफ़र में कुछ ऐसे मोड़ आते हैं,

जिनमें कुछ बेहद अज़ीज़ लोग भी साथ छोड़ जाते हैं।

जिन्हें ये फिक्र नहीं सर रहे न रहे

वो सच ही कहते हैं, जब बोलने पर आते हैं।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract