Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shyam Kunvar Bharti

Romance

4  

Shyam Kunvar Bharti

Romance

रिमझिम बरसात

रिमझिम बरसात

1 min
49


रिमझिम बरसात आ गई

प्यारी तेरी याद आ गई

बुँदे तन को भिंगा गई

प्यारी तेरी याद रुला गई


छाए नभ मे बादल काले काले

याद मे तेरी दिल हुये छाले

घर आँगन हवा बलखा गई

प्यारी तेरी याद आ गई


भिंगी हवा बहे ठंडी ठंडी

आह निकले दिल मंदी मंदी

झोंका फुहार अरमा जगा गई

प्यारी तेरी याद आ गई


तुम होते तो संग भिंग लेते

तेरे आँचल की छाँव सर रख लेते

भिंगा मौसम तू कहा खो गई

प्यारी तेरी याद आ गई


मोहब्बत की डाली दिल का झूला बनाते

इसके झूले पर तुझको हम झूलाते

तेरी बांहों की रस्सी झूला गई

प्यारी तेरी याद आ गई।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance