Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

प्यार की अनुभूति

प्यार की अनुभूति

1 min 13.8K 1 min 13.8K

प्यारी - सी कोई

सुखद अनुभूति

कल तक अनजानी - सी

आज पहचानी - सी


उषा की कोई किरण

आशा की लहर बनकर

बस जाती है दिल में

अपने के एहसास के साथ


लगता है जैसे हम उसे

सिद्दत से जानते हैं

टिक जाती है साँसों में

गर्माहट के साथ

छोड़ती मादकता की

भीनी - भीनी खुशबू

लहराने लगती है

तरंगो - सी

बहने लगती है

पोर- पोर में

चाहत की सरिता

बनकर


प्यार के इस एहसास में

बड़ी प्यारी लगने लगती है दुनिया

छोटा हो जाता है आसमांन

बौना नजर आता है पहाड़

लिखी और फाड़ी

जाने लगती हैं चिट्टियाँ

प्यारे लगने लगते हैं

फल - फूल

गदराने लगता है यौवन

बदलने लगती है देह- बोली

होने लगता है व्यक्त

कल तक जो था अव्यक्त


शायराना अंदाज

आँखों में सपने

आईने से लगाव

एस.एम.एस., मेल, वाट्सअप

फेसबुक का सिलसिला

और बहुत कुछ


फिर

उस अनजाने सुख को

पाने के लिए

मचलने लगता है दिल

रहने लगता है इंतजार

उस खूबसूरत

अजनबी पल का

दिलों के हिलोर का

उस सुनहरे कल का

तन - मन का

जिस पर

नहीं होता है बस

किसी का

हमारा- आपका...!





Rate this content
Log in

More hindi poem from Ramesh Yadav

Similar hindi poem from Drama