Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

SURYAKANT MAJALKAR

Abstract

2  

SURYAKANT MAJALKAR

Abstract

पढ़ाई -लड़ाई

पढ़ाई -लड़ाई

1 min
420


एक दोस्त पुराना 

चाय की दुकानपर मिला था

बातों का सिलसिला 

घंटोतक चला था


पढ़ाई के मामले में

अव्वल नंबर था

पहिली बेंचपर 

हमारा हक था


लास्ट बेंचर्स बदमाश थे

हर सबजेक्ट के टीचर्स खास थे

कोई बहुत बातुनी

कोई सुनाये कहानी

कोई ज्यादाही कड़क

कोई मेकअप से भड़क ।


खुब मस्ती चलती थी।

मुझे भाषा में दिलचस्पी थी।

कोई खेलकूद में अव्वल था।

कोई सौ में सौ एक नंबर था ।


आख़री साल दसवीं का था ।

अब बिछड़ने का वक्त आया था।

फेअरवेल पर हम सब रोये ।

टीचर्स ने भी आँसू बहाये ।


अभी कभी जब कोई दोस्त मिलता।

समय का बिलकुल पता न चलता।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract