Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Surekha Awasthi

Classics

4  

Surekha Awasthi

Classics

मेरी बेटी

मेरी बेटी

2 mins
386


मेरे पहले गर्भ की चाह 

हो जाये मुझे एक बेटी 

अपनी काल्पनिक बेटी अपनी गुड़िया को 

खूब सँवारा और अपने साथ सुलाया था 

जब मै थीं अपने माँ की बेटी 


जब नन्ही सी परी आयी मेरी गोद में  

मैंने पुकारा उसको बेटी  

उसके नन्हें पाव ने खूब दौड़ाया 

उसकी नटखट अदा ने खूब लुभाया 

वो नन्ही परी मेरी बेटी 


मेरी जिम्मेदारियों ने जब ललकारा मुझे 

बिन माँ के पल गयी मेरी बेटी 

मेरे हर आंसू और संघर्ष की 

चश्मदीद गवाह हुयी मेरी बेटी 

पर आज मुझसे बात नहीं करती 


हर वक्त नाराज रहती है मेरी बेटी 

कहती है क्यों पैदा किया क्यों सहा संघर्ष 

जब संभलती नहीं आपसे आपकी बेटी 

क्यों पैसों के लिए दौड़ी 


क्यों काम पे अपना वक्त गुजारा 

हम भूके रहते हम अभाव में रहते 

पर बिन माँ के ना पलती तेरी बेटी 

क्या बताऊँ मेरी लाडो 


कि हर सुख देने की ख्वाहिश में  

मैंने झोक दिया अपना जीवन 

अब जब वो समझी 

तो मुझे गलत समझती है मेरी बेटी 

बेटियों को दुख सहना किस्मत की बात है 


इस बात को मै झुटलाना चाहती थीं 

तेरे कदमो मे हर खुशियां लूटना चाहती थी मेरी बेटी 

आज तुझे सब व्यर्थ लगता है 

आज सब दिखावा हो गया 

तू छोटी थी ना तो बिन कहे 


परवाह की थी मैंने तेरी मेरी बेटी 

शायद अब कभी उसका बचपन 

मैं लौटा ना पाऊँगी 

शायद उसके दिल में जगह

 अब कभी बना ना पाऊँगी 

आज मुझसे नाराज है 


मुझे नफ़रत से देखती है मेरी बेटी 

पर मै फिर भी तेरी ढाल हूँ  

तेरे सफलता की दौड़ मे तेरीचाल हूँ 

तेरे तेज दौड़ते कदम कभी 


इस राह पे ठोंकर खाएंगे नहीं 

हर कदम पर फूलों का चादर बिछाऊँगी मेरी बेटी 

तू खुश रहना तू मशरूफ रहना 

मुझसे नाराज सहीं पर महफूज रहना मेरी बेटी 

तेरी माँ ने तुझे बहुत प्यार किया बहुत चाहा 


तेरे ही भविष्य के लिए दुनिया का दर्द सहा 

मै तुझसे नाराज नहीं, बस शर्मिंदा हु 

हो सके तो मुझे माफ़ कर देना मेरी बेटी 

हो सके तो मुझे माफ़ कर देना मेरी बेटी।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics