Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Nidhi 'Vrishti'

Romance


3  

Nidhi 'Vrishti'

Romance


मैं

मैं

1 min 427 1 min 427

खुद में ही हर घड़ी बनती बिगड़ती भी मैं

खुद में ही हर समय गिरती सम्भलती भी मैं।


शाम के नशे सी चढ़ती उतरती भी मैं

खुद अपने आप में ही चलती ठहरती भी मैं।


खुद को ही डराती खुद से ही डरती भी मैं

सन्नाटों में खुद से ही बातें करती भी मैं।


खुद को आइने में देखकर सँवरती भी मैं

उसी के सामने फिर आँख मलती भी मैं।


दिल से सही तो मन की हर गलती भी मैं

यूँ ठंडी रात की सरगोशियों में पिघलती भी मैं।


दुनिया के रंग देखकर रूठती बहलती भी मैं

सूनी राह पर अजनबी यारों के संग चलती भी मैं।


वो तितलियों के साथ पल-पल मचलती भी मैं

वो उस खुदा की नायाब गलती भी मैं।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Nidhi 'Vrishti'

Similar hindi poem from Romance