Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Kumar Naveen

Tragedy


5.0  

Kumar Naveen

Tragedy


मासूम सवाल : क्यों ?

मासूम सवाल : क्यों ?

1 min 182 1 min 182

जिस तिरंगा को अदब से,

हाथों में तुम थामे थे ।

आज उसको ओढ़कर,

पापा घर आए हो क्यों ?


पहले जब भी आते थे,

बाँहों में तुम भर लेते थे ।

आज खुद ताबूत में,

कंधों पे चढ़ आए हो क्यों ?


पूरी मेहनत से पढूँगी,

और ना झगडूँगी कभी ।

पर मुझे इतना बता दो,

पापा तुम रूठे हो क्यों ?


जब कोई मिलने आते थे,

तुमसे गले लग जाते थे ।

आज सबके आँख नम,

और हाथों में है फूल क्यों ?


कोई मुझसे क्यों नहीं,

कह पा रहें है क्या हुआ ।

मम्मी मुझको चूमकर,

रोने लगी और तेज क्यों ?


Rate this content
Log in

More hindi poem from Kumar Naveen

Similar hindi poem from Tragedy