Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

निशा परमार

Abstract Drama Tragedy

4  

निशा परमार

Abstract Drama Tragedy

मानवता आँखें मींचे

मानवता आँखें मींचे

1 min
78


बहुत विचलित है मंन

आज की घटनाओं से

दिल दिमाग की यातनाऔँ से

ये कैसा अजीब सा घुटन भरा


मन को कचौडता रोंध्ता सा

पूरे जग का दुर्गन्ध भरा वातावरण है

कभी कोई नन्ही सी कली

किसी की हैवानियत की बली चढी


तो कभी किसी अबला की अस्मत बीच बाजर लुटी

कभी किसी गरीब की झोपड़ी

कर्ज की आग में राख हुई

तो कभी ख्वावों की दुनियाँ खाक हुई


तो कभी अमीरी की ऊँची इमारत के नीचे

मजदूर की सांसे दब गई

कभी रिश्वतखोरी के नीचे

न्याय की गुहार मर गई


कभी छतपटाता नीला पड्ता शरीर किसी

जीव का जहरीले पानी से

कभी बारुदों के ढेर से उठता धुआँ आतंक का

कभी झड़ता घुन जाति पांति


भेद भाव के दीमक लगे दिमाग से

कभी कंपकपाता नभ थल जल

वातावरण में आये विनाशकारी भूचाल से

कभी डरता छुपता सहंंमता मानव


अदृश्य प्राण प्यासे सूक्ष्म जीव से

कभी मंडराते जहरीले बादल से होती

बारिश धधकते तेजाब की

कभी गुर्राहट समुंदर मेँ उठते भन्नाते


तहस नहस करते तीव्र वेग के शैतान की

कभी किसी के घर से आती

दहेज की आग मे सुलगती

सांसो की कराहती चीन्खें


जगत में होते कुकृत्य को देखती

मानवता आँखें मीचे। 


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract