Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.
Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.

Shyam Kunvar Bharti

Romance


4  

Shyam Kunvar Bharti

Romance


कविता- प्रेम रस - दिल मे रहता हूँ |

कविता- प्रेम रस - दिल मे रहता हूँ |

1 min 190 1 min 190

दुनिया के दुखों से तुम्हें कहीं दूर लिए चलता हूँ

आओ प्रिये हर नजर के असर दूर किए चलता हूँ


चाँदनी रात है खुला आसमान ठंडी हवा बह रही

सितारो की महफिल मिल जाओ फिजाँ कह रही


हर तरफ शांती सकुन खुशबू रात रानी महकी है

बना लो सेज नर्म हरी घास जुलफ़े तेरी बहकी है


उतर आया चाँद गोद मेरी दावे से मै कहता हूँ

भूल जाओ गम सारे आओ आज दूरिया मिटा दो


समा लो मुझे जुल्फों के साये गोद सिर लिटा दो

डूब जाऊँ तेरी गहरी झील सी आंखो की गहराई


नजरों से उतर तूने दिल मे मेरी जगह है बनाई

हसीन वादियो तेरी गजल को दिल से पढ़ता हूँ


तेरे बदन की खुशबू को और भी महक जाने दो

सोये हमारे अरमानो को और भी बहक जाने दो


पूनम की चाँद हो तुम लरजते लबो फरियाद हो

हुश्न ए मल्लिका तुम आज हर बंधनो आजाद हो


नहीं कोई दोनों के बीच मै तेरे दिल मे रहता हूँ

एहसास तेरी गर्म साँसो का हो रहा है मुझे बहुत


मदहोसी का आलम अब छा रहा है तुझमे बहुत

पाक मोहब्बत हमारी जज़बातो को संभाले रखना


हो जाये गुनाह कोई दोनों खुद को संभाले रहना

मोहब्बत और मोहब्बत सिर्फ मै तुमसे करता हूँ।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shyam Kunvar Bharti

Similar hindi poem from Romance