Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Lakshman Jha

Romance

4  

Lakshman Jha

Romance

कुछ देर और सही

कुछ देर और सही

1 min
233



बहुत सी बातें हमको करनी है ,

बस रात जरा होने दो !

जी भर के तुमको हम देख लें,

बस रात जरा होने दो !!

तुम्हारा साथ आज मिल गया ,

हमें और कुछ ना चाहिए !

तेरे दीदार से सब मिल गया ,

हमें और कुछ ना चाहिए !!

रुक जाओ हमारे पास सनम ,

बस रात जरा होने दो !

बहुत सी बातें हमको करनी है ,

बस रात जरा होने दो !

जी भर के तुमको हम देख लें

बस रात जरा होने दो !!

तुम्हारी भींनीभींनी सी खूसबू 

हमें मदहोश करती है !

हमारे पास रहने का सदा यह

सुखद एहसास देती है !!

कुछ देर यूँ हम निहार तो लें ,

बस रात जरा होने दो !

बहुत सी बातें हमें तो करनी है ,

बस रात जरा होने दो !!

जी भर के तुमको हम देख लें

बस रात जरा होने दो !!

आधे घूँघट में तुम्हें हम देखेंगे ,

इसमें ही अच्छी लगती हो !

अपने नयनों की भंगिमाओं से 

अनकही बातें तुम कहती हो !!

भाषा थोड़ी और हम सुन लें ,

बस रात जरा होने दो !

बहुत सी बातें हमको करनी है ,

बस रात जरा होने दो !

जी भर के तुमको हम देख लें,

बस रात जरा होने दो !!



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance