Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Rajit ram Ranjan

Abstract

5.0  

Rajit ram Ranjan

Abstract

कहाँ है ?

कहाँ है ?

1 min
286


वो पास है, 

पर 

पास कहाँ है !

मिलने की एक 

आस है, 

पर आस कहाँ है !


दौलत है 

ये दुनिया, 

पर दौलत

कहाँ है !


मोहब्बत हैं 

सबको, 

पर 

मोहब्बत कहाँ है !


तन्हाई में हैं 

सब पर 

तन्हाई कहाँ है !

इंतज़ार है सबको पर 

इंतज़ार कहाँ है !


वो पास है पर 

पास कहाँ हैं !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract