Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

GOPAL RAM DANSENA

Abstract Inspirational


4  

GOPAL RAM DANSENA

Abstract Inspirational


कभी स्वीकार न किया

कभी स्वीकार न किया

1 min 235 1 min 235

मन में अहंकार तांडव कर रहा

सपनों का मुकाम हर ढहा

हाय रे मानव तेरा जीवन कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया

कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया


प्रकृति तेरे बस में नहीं

तेरे कदम बस है यहीं

क्या नापेगा संसार सारा कभी

ब्रम्हांड का दीदार न किया

हाय रे मानव तेरा जीवन


कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया

कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया


यों संत राग अलापते चले गये कई

तरुवर मन हर बहार पुलकित नयी

क्या बांटेगा सुकून उड़ते पत्तों का झोंका

उम्र गया पर मोह का आसार न गया


हाय रे मानव तेरा जीवन

कभी

मोह का आसार न गया

कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया


दर दर भटक रहा दुख से भागा

जहाँ गया अतृप्त सुख ही माँगा

देख अपने भी छोड़ आया तू पिछे

साथ रहते प्रेम का व्यवहार न किया

हाय रे मानव तेरा जीवन

कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया

कभी

सच्चाई को स्वीकार न किया।


Rate this content
Log in

More hindi poem from GOPAL RAM DANSENA

Similar hindi poem from Abstract