Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Sumit Malhotra

Tragedy Action Classics

4  

Sumit Malhotra

Tragedy Action Classics

जय जवान जय किसान।

जय जवान जय किसान।

1 min
266


बस आज ये मतलब का नारा है।

ना बचता है असहाय और बेबस किसान,

सरहद पर मुफ्त में मारा जाता बहादुर-वीर जवान।


जवानों और किसानों को हक दिलाना है,

तो भ्रष्ट सिस्टम का मिटाना होगा नामोनिशान।

हाय रे कैसी किस्मत दोनों की,

चाहे वो जवान हो या फिर किसान।


बन जायेगा ये देश सोने की चिड़िया और महान,

जिस दिन मिलेगी दोनों को आन-बान-शान।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy