Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Shashi Aswal

Abstract Tragedy


3  

Shashi Aswal

Abstract Tragedy


इंतज़ार

इंतज़ार

2 mins 56 2 mins 56

वो जो दरवाजे पर है बैठी जैसे जिंदगी हो उससे रूठी

आँखें है सुनसान राहों को तकतीजैसे किसी की बाट हो तकती

जिंदगी के इस पडा़व में देख सब चुके रंगीले सपने है

तभी शायद आँखों के नीचे झुर्रियाँ अपनी दुनिया बसाए बैठे हैं

जिंदगी की आधी सी ज्यादा उम्र चीड़ की लकडि़यों को काट कर बीत चुकी है

छरहरी कोमल काया अब झुकी हुई कमर में बदल चुकी है

बाहर थोड़ी सी हलचल होने परलाठी लिए दरवाजे पर आ जाती है

चूल्हे के धुएँ से जमी तस्वीर को धोती के पल्लू से साफ करती है

जब भी कभी पडो़सी के घर से डाकिए के आने की खबर मिलती है

मोतियाबिंद से ग्रसित हो चुकी आँखों में ना जाने क्यों एक चमक सी आ जाती है

और फिर ना जाने क्यों उसकी धीमी चाल तेज हो जाती है

पहाड़ों की टेढी़-मेढी़ पगडंडी भीउसके लिए परदेस की सड़क बन जाती है

डाकिए से मिलने के बाद खुशी की लकीरें मिट चुकी होती है

ना जाने किस हाल में होगा बेटा सोचकर माथे पर शिकन की लकीरें आ जाती है

जब भी कभी खेत के काम पूरे कर दिन का खाना खाने बैठती है

बेटे ने खाना खाया होगा या नहीं सोचकर निवाला गले से नहीं उतारती है

हाँ, वो माँ है माँ ही तो हैं कल भी इंतजार करती थीऔर आज भी इंतजार करती है

तुम सब जो पहाड़ों की शांति और सुंदरता को देखते हो

जरा गौर फरमाइयेगा उस माँ पर भी जो अशांत मन से दरवाजे पर टकटकी लगाए रहती है

ये तुम सब जो बाहर सेवादियों की खूबसूरती देखते हो ना

पर तुम सब नहीं देख पातेउन सूख चुकी आँखों का इंतजार 

ये तुम्हें जो ऊँचे-ऊँचे पहाड़ शांति से खडे़ दिखाई देते हैं ना

दरअसल ये सब अंदर सेखोखले और बेबुनियाद होते जा रहे हैं 

माँ जिसका जन्म इन पहाड़ों में हुआ कल शायद वो इसी मिट्टी में मिल जाए

पर शायद ही खत्म हो पाए उसकी आँखों का वो इंतजार!


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shashi Aswal

Similar hindi poem from Abstract