Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

एक चिट्ठी दिल से

एक चिट्ठी दिल से

1 min 131 1 min 131

  काग़ज़ तुम लेते आना,

      क़लम दिल की पास है।

  स्याही की चिंता न करना,

      अश्कों का सैलाब है।

  कोरे काग़ज़ पे अपने,

       जज़्बात उकेरूँगी लिखकर।

  बस इतनी इल्तिजा है तुमसे,

       फाड़ न देना तुम पढ़कर।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Alka Nigam

Similar hindi poem from Romance