Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Amit Kumar

Abstract


4  

Amit Kumar

Abstract


धड़कन

धड़कन

1 min 295 1 min 295

मेरी खामोशियों के शोर को भला कौन सुनता है

मेरी खामोशी मे आवाज़ नहीं है 

सिर्फ चीखें ही बसती है

यहाँ कहकहों का दौर है चीखें कौन सुनता है

एक ग़ालिब! थे जिन्हें ज़िंदा लाश बना दिया

जहाँ भर की गुरबत ने

जहाँ सुनते हो साज-ए-दिल्

वहाँ फक़ीरो की तानों को भला कौन सुनता है

मिजाज़ है कुछ अल्हदा सा मेरा बस यही फजीहत है

तेरी सुर्ख गालों की तब्बस्सुम् का यहाँ भला कौन नहीं क़ायल

मेरी नजरोँ की गुफ्तगु 

बस एक मेरा दिल समझता है

यह शहर यह दयार यहाँ सब ही जानते है

तवायफ़ की घुँघरू की खनक के आगे 

मीरा की रुबाई भला कौन सुनता है।

खुदा भी पत्थर है सनम भी हुए पत्थर

जहाँ जिसकी खैर मांगी वहीं वो दिल हो गया पत्थर

तुम्हारी खतायें है अमित जो तुम दिल रखते हो

यहाँ पत्थर के नुमाइंदे है यहाँ दिल की धडकनें 

भला कौन सुनता है।

 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Amit Kumar

Similar hindi poem from Abstract