Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Shyam Kunvar Bharti

Romance


3  

Shyam Kunvar Bharti

Romance


भोजपुरी गीत- चुनरिया संभाला सजनी

भोजपुरी गीत- चुनरिया संभाला सजनी

1 min 133 1 min 133

बरसेला बदरा झीर झीर चुनरिया संभाला सजनी।

चिकन भुईया जइहा ना गिर उमरिया संभाला सजनी।

रही रही चमकेले बदरा में बिजुरिया।

भरी भरी नजरा में तरसेले गुजरिया।

लौटी सइया अइहे ना फिर गगरिया संभाला सजनी।

दुअरा पर ठाड़ गोरी निहारे ली डहरिया।

कब अइहे निर्मोही मोर बाँके सवरिया।

बहावे गोरी अँखिया नीर नजरिया जुड़ाला सजनी।

सगरो गगनवा छाईल कारी बदरिया।

पिया घरे नाही गोरी जिनगी अनहरिया।

बयार बरखा जिया अधीर सेजरिया संभाला सजनी।

छाए घटा घनघोर हिया भय लागे बड़ी ज़ोर।

गरजे बदरवा पिया बिन पड़पे जिया मोर।

अईले साजन खियावा खीर पजरिया बुलाला सजनी।  

बरसेला बदरा झीर झीर चुनरिया संभाला सजनी।

चिकन भुईया जइहा ना गिर उमरिया संभाला सजनी।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Shyam Kunvar Bharti

Similar hindi poem from Romance