Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Khanak upadhyay

Abstract Inspirational


4  

Khanak upadhyay

Abstract Inspirational


भारत के वीर.....

भारत के वीर.....

2 mins 5 2 mins 5

कहते हैं ना जो ठान लेते हैं, वो कर लेते हैं,

भारत के वीर नौजवान जब हाथ में बंदूक और

शरीर में खाकी वाली वर्दी पहनते हैं,

तो अच्छे-अच्छों की ज़ुबान पर भारतमाता ले आते हैं,


भारत के वीर बिना Google पर search करे भी,

अपना नाम कमा जाते हैं,

हम हिंदुस्तान लिख कर search करते हैं,

तो पाते है सवा-सौ करोड़ की जान सैनिक में है,

असली में टी.वी.पर जो Heroes देखते थे,

वो Superheroes आज हमें इस पावनधरा पर देखने मिले हैं,


सचमुच अगर भगवान भी कह दे ना,

मैं तुम्हारा ईश्वर हूँ तो यकिन ना होगा हमें,

पर एक फ़ौजी को सरहद पर देखेंगे ना,

तो हमारा दिल, चैन, सब खो बैठेंगे,

क्योंकि हाथ से ऐसे ही थोड़ी गोली चलती है,

और अगर एक चिराग बुझता है ना

तो सौ सूरज बन जाते हैं,

भारत के वीर इतिहास लिख जाते हैं,


भले ही वो चाँद, सितारा ना हो,

पर लोगों के दिलों में राज कर जाते हैं,

भारत के वीर चार-कदम बढ़ाकर,

भारत को जंजीरों से आज़ाद कर जाते हैं,

वो कहावत "पत्थर में भी खोजो तो भगवान मिल जाते हैं",

आज एक बार वीरों को याद करके देखो,


क्या नसीब है उनका दोस्तों,

जो गिरते तो है ज़मीन पे, पर उन्हें ढ़कता तिरंगा है,

भारत के वीर Independence day के लिए नहीं,

भारत को फिर से वही सोने की चिड़िया नाम से पहचानने के लिए,

जाते-जाते भारत को ख़त छोड़ जाते है,

क्या कुछ कमी थी उनको सुकुन की,

जो हमें सुकुन देकर,

खुद को देश की मिट्टी के नाम कर गए


कहते हैं ना जो ठान लेते हैं, वो कर लेते है,

भारत के वीर नौजवान जब हाथ में बंदूक और

शरीर में खाकी वाली वर्दी पहनते हैं,

तो अच्छे-अच्छों की ज़ुबान पर भारत माता ले आते हैं।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Khanak upadhyay

Similar hindi poem from Abstract