Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

बेशर्मों की तरह !

बेशर्मों की तरह !

1 min 460 1 min 460

नफ़रत से देखते हो 

फिर प्यार करते हो 

इतना चाहते हो 

फिर भी बदनाम 

करते हो, 


कभी सोचा है 

मेरे बारे में, 

कि लोग 

क्या कहते होंगे, 


जब मैं 

छुप -छुपाकर 

लोगों से 

अकेले तुमसे 

मिलने को 

किसी कि परवाह 

किये बिना,

 

बेशर्मो की 

तरह 

भागी-भागी 

चली आती 

थी !


आज तन्हाइयों में 

ज़ब कभी 

फुर्सत में होती हूँ, 

दिल पे 

हाथ रखकर, 

धड़कन को 

सुनने की 

कोशिश करती हूँ, 


मगर खुद को 

नाकाम पाती हूँ, 

जानते हो क्यूँ, 

क्यूँकि ये धकड़न 

अब हमारी 

नहीं रही,

 

ये तो आपकी 

अमानत है, 

आपकी जुदाई में 

आजकल तो 

धड़कना भी 

छोड़ दिया है !


उस लम्हे में 

अथाह खुशियाँ 

मिलती हैं इसे, 

ज़ब तुम्हारा हाथ 

मेरे हाथों में, 


और होठ 

मेरे होठों को छूते हैं, 

मैं सिमट सी 

जाती हूँ, 

तुम्हारी बाहों में, 


खो देती हूँ 

खुद को 

कुछ पल के 

लिए !


अपना ये इश्क़ 

लोगों के समझ में 

नहीं आएगा, 

अय्याशी की चादर 

ओढ़े हुये हैं 

लोग यहाँ।

 

लोगों की नजरें 

आज भी हमें 

देखती हैं, 

बेशर्मो की तरह...!



Rate this content
Log in

More hindi poem from Rajit ram Ranjan

Similar hindi poem from Romance