Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

ARVIND KUMAR SINGH

Abstract


4.7  

ARVIND KUMAR SINGH

Abstract


अभिप्राय

अभिप्राय

1 min 41 1 min 41

गांव गांव शहर शहर और

हर भारतवासी के सीने मे

बन के धडकन उभरे ऐसे

प्यारी सी कविता अभिप्राय


देश के मुहाने पर डटे हुए

हर वीर सिपाही की आंखों

में देश की रक्षा के जज्बे सी

चौकन्नी निगाहें अभिप्राय


भटक रहा दर बदर है जो

तलाश में रोजी रोटी की

आशाओं की हर बंद डगर

का खुल जाना अभिप्राय


जिंदगी के कठिन सफर में

अंगारों सी तपती रेत पर

झुलसे कदमों पर लाश सी

ढोते की मरहम अभिप्राय


दूर भाग रहा एक दूजे से

खुदगर्जी के वशीभूत हो

नफरत की उस बयार में

इंसानियत ही अभिप्राय


बीच चौराहे तोड़ मरोड़ के

हर आने जाने वाले पर

हाथ पसारे हुए बालपन

को गले लगाना अभिप्राय


लूट फिरौती हत्या रंगदारी

डरी सहमी बलत्कारी से 

चहारदीवारी कैद है उसका 

स्वछंद विचरण अभिप्राय


डंडे बरसते देख अकारण

निर्दोषों की रुह कांपती जो

न्याय संगत हो राजनीति

पाप मुक्त शासन अभिप्राय!


Rate this content
Log in

More hindi poem from ARVIND KUMAR SINGH

Similar hindi poem from Abstract