Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मैं अपने आप से
मैं अपने आप से
★★★★★

© Yogesh Suhagwati Goyal

Comedy Romance

1 Minutes   14.7K    563


Content Ranking

कभी कभी अकेले में, मैं अपने आप से बातें करता हूँ,

अगर तुम्हारा साथ ना मिला होता, तो मैं कैसा होता ?


निश्चित तौर पर मेरा वजन, इतना तो ना बढ़ा होता

७५ किलो का ना सही, १११ किलो तो ना हुआ होता


तुम नये २ चटपटे व्यंजन, बना बनाकर खिलाती रही

और अपनी मदमाते अन्दाज़ की, मदिरा पिलाती रही।


मैं खाने पीने का शौक़ीन, अदरक की तरह फैल गया

शरीर L से XXXL और, कमर का कमरा बन गया।


धूम्रपान अलविदा ने भी, भार बढने में योगदान दिया,

एक व्यसन से बचने में, नयी मुसीबत में फंसा दिया।


सिगरेट तो छूट गयी, लेकिन भूख को पंख लग गये,

पेट इतना बढ़ गया कि, अपने पैर दिखने बंद हो गये।


रेडीमेड कपड़ों ने मुंह फेर लिया, आखिर क्या करते,

ढीले कुरते पजामे छोड़, कोई कपडे फिट नहीं बैठते।


रिटायरमेंट के बाद, कुछ ज्यादा ही आलसी हो गया

और मैं Vertical कम, Horizontal ज्यादा हो गया।


तुमने, ना अहम् पर चोट की, ना कभी बंदिश लगाईं,

मेरे प्रयासों में साथ दिया, हमेशा मेरी हिम्मत बढाई।


तुम्हारा साथ ना होता, शायद मेरा वजन कम होता,

परन्तु निश्चित तौर पर, मेरी परिपक्वता भी कम होती।


कभी कभी अकेले में, मैं अपने आप से बातें करता हूँ,

अगर तुम साथ नहीं होती, तो मैं “योगी” कैसा होता।

कविता खाना पेट वजन व्यंजन शौक़ीन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..