Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
दो राहें थीं
दो राहें थीं
★★★★★

© Abhishek shukla

Drama

2 Minutes   20.7K    25


Content Ranking

अंधियारे को मिटते देखा था

बस एक किरण सूरज की से

साख बदलते देखा था

क्षण भर में मन की गर्मी से

चिड़ियों की गुंजन मद्धम थी

कुछ सावन की हरियाली थी

आजीवन ना मिटने वाली

एक साख गजब बना ली थी

क्षणभर में बाजी यूं पलटी किस्मत मुझसे मुंह मोड़ चली

दो राहें थी,

इक घर को

इक सपनों की ओर चली


था कठिन समय वह निर्णय का

सब कुछ उस पर था टिका हुआ

उस ईश्वर से आस

उसी के आगे सिर था झुका हुआ

क्षण भर को राह वही देखी

जिस पर से मैं हो आया था

शून्य से लेकर शिखर

आज मैंने ख़ुद को पहुँँचाया था

बचपन को एक बार सोचा

स्मृति मुझको झकझोर चली

दो राहें थी,

इक घर को

इक सपनों की ओर चली


बचपन में जो भी सोचा था

वह आज पूर्ण हो आया था

सपनों वाली राह पे अपनी

आगे ख़ूब निकल आया था

न हो विस्मृत कोई,

न तप, न प्रयास किसी का

धन्य है जीवन यह जिससे

यह जीवन है मात्र उसी का

माँँ की ममता करके

मुझको भाव विभोर चली

दो राहें थी,

इक घर को

इक सपनों की ओर चली


सबकी उम्मीदें पूर्ण हुई

सपने सबके साकार हुए

ईश्वर के मुझपर

अविस्मरणीय उपकार हुए

सबको खुश करने का सपना

मेरा बचपन से था

कुछ करने का एक जुनून

सिर पर मेरे छुटपन से था

सबकी ममता सपनों को करके

मेरे कमज़ोर चली

दो राहें थी,

इक घर को

इक सपनों की ओर चली


लौटा आज स्वयं

मैं फिर बचपन की हरियाली में

चेहरे को छूती थीं

बूंदे काली घटा निराली में

इक लंबी अवधि बीत गयी

जब माँ ने ख़ूब खिलाया था

आँचल से ढककर लोरी गाकर

गोदी में हमें सुलाया था

माँँ की लोरी

फिर से कानों में करके शोर चली

दो राहें थी,

इक घर को

इक सपनों की ओर चली...।

Paths Life Lessons Dreams

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..