Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

ASHISH SINGH

Abstract


3  

ASHISH SINGH

Abstract


पहली सीढ़ी जब हमने साथ में चलना शुरू किया

पहली सीढ़ी जब हमने साथ में चलना शुरू किया

2 mins 207 2 mins 207

शुरुआत तो हो चुकी थी हमदोनो के रिश्ते की ।बस कुछ पल के लिए हमलोग बात करते थे जो कि समय लगभग मालूम हो गए थे ।सुबह से उठ कर शाम तक एक ही जीवन शैली चल रही थी अपनी , सुरूवती बात तो बहुत धीरे रही इतनी धीरे जिसकी आप कल्पना नही कर सकते आज के इस आधुनिक युग में।

जैसे सुबह में बात हुई , बात होते होते वो कहीं चले गए मेरे लिए तो बहुत अजनबी थे फिर मैं खुद को कैसे संभालता अगली बातचीत तक के लिए ये भी एक कश्मकश बात थी।

लेकिन कुछ घंटों के अंतराल के बाद फिर वो समय वापस आता था जब मुझे अजनबी इंसान को समझने का मौका मिलता था , अफसोस की बात ये थी समय कुछ देर का होता हैं मन की भावनाएं बाहर आने से पहले रोक लिए जाते थे क्युकी उसको समझने के लिए वो सामने होते नही थे।विचलित होने की संभावना बहुत रहती थी लेकिन मन कही न कही से उनके आसपास जा बसा था । हर किसी के साथ आप खुद को नही देख सकते वजह बहुत सारे होते हैं अगर आप वास्त्विक रिश्ते आगे बढ़ाना चाहते हों , उनके साथ भी मेरे अजनबी रिश्ते कुछ मजबूत बन गए थे।रात्रि होते सोना फिर अगले सुबह से एक जैसे अब कार्य जो पिछले कुछ दिनों से चलते आ रहे थें।

फिर मिलते हैं अगले कहानी में ।  


Rate this content
Log in

More hindi story from ASHISH SINGH

Similar hindi story from Abstract