VIPIN KUMAR TYAGI

Inspirational


4  

VIPIN KUMAR TYAGI

Inspirational


लॉक डाउन में जीवन व सीख

लॉक डाउन में जीवन व सीख

3 mins 3 3 mins 3

मेरा जीवन लॉक डाउन से पूर्व एकदम अलग था जैसे ही जनता कर्फ्यू 22 मार्च को लगा उस दिन पूरे दिन घर पर रहने का अनुभव हुआ पहले तो बड़ा मुश्किल लगा अगले दिन से 21 दिन का लॉक डाउन घोषित हो गया मैने अपनी कोई तैयारी नहीं की थी मैने लॉक डाउन में अनुमति के समय में घर के लिए सामान खरीदा।

फिर पहला दिन मुश्किल से व्यतीत किया घर से ही कार्य करने को हमें कहा गया हमें लगा कैसे कार्य होगा कैसे हम घर का सामान खरीदेंगे कैसे समय बीतेगा इन सब प्रश्नों के साथ ही पहला दिन बीता हमने कई बार हाथ धोए अपने आपको सेनिटाइज किया पहली बार मोबाइल पर ऑफिस का कार्य किया फिर लॉक डाउन का समय बढ़ता गया हमें सोशल डिस्तांसिग,मास्क पहनने व हाथ सेनीटाइज करने की आदत पड़ती गई हमें शुरू में मोबाइल पर ऑफिस चलाने की मुश्किल आई लेकिन आहिस्ता आहिस्ता हमें आदत पड़ती गई हमने पहले ऑन लाइन स्कूल का परीक्षा परिणाम घोषित किया फिर ऑन लाइन शिक्षण कार्य प्रारम्भ किया शुरू में शिक्षकों व छात्रों को पढ़ने पढ़ाने में परेशानी आई लेकिन थोड़े समय में इसकी भी आदत

बन गई पहले हमने वीडियो यूं ट्यूब पर अपलोड कर पढ़ाया, व्हाट्सअप पर छात्रों के ग्रुप बनाए उनमें इंटरेक्शन किया फिर थोड़ा सा पढ़ाने में सुधार किया और फिर गूगल क्लास रूम से पढ़ाना शुरू किया।

फिर ऑन लाइन परीक्षा का आयोजन किया एक के बाद एक सफलता मिलती गई हमारे हौसले बढ़ते गए अब हमने व हमारे शिक्षकों ने गूगल मीट पर पढ़ाना शुरू कर दिया हमने सीसीए एक्टिविटी भी करानी शुरू की हमारे यूं ट्यूब चैनल ने इस दौरान बहुत अच्छा प्रदर्शन किया।

इसको 3 लाख से ज्यादा बार छात्रों ने देखा 2800 छात्रों ने सब्सक्राइब किया व 6000 से ज्यादा घंटे यह देखा गया मेरा स्वयं का यू ट्यूब चैनल भी अच्छा चला जो छात्रों की प्रेरणा के लिए था इसे भी खूब देखा गया मैने इस दौरान कोरोना क्विज, कोरोना के कोर्स व कई अन्य प्रोग्राम किए हमने छात्रों के लिए अनेक क्विज व शपथ का आयोजन किया हमने छात्रों के लिए अनेक पेंटिंग व essay writing प्रतियोगिताओं का आयोजन किया हमने छात्रों को तनाव से बचाने के लिए अनेक प्रतियोगिताओं का आयोजन किया हमने ऑन लाइन वार्ता छात्रों व अभिभावकों से की उनके लिए शिक्षक अभिभावक मीटिंग का आयोजन 3 बार किया हमने लॉक डाउन के दौरान घर से लगातार अपने 1600 छात्रों को तनाव रहित रखने का कार्य किया।

हमने छात्रों के साथ साथ 3200 अभिभावकों को भी तनाव रहित रखने का कार्य किया यह एक अनोखा अनुभव था मै एक प्राचार्य हूं मैने व मेरे 45 शिक्षकों ने स्कूल बंद होने के बावजूद ऑन लाइन शिक्षण कर छात्रों को घर पर ही स्कूल का अनुभव कराया मैने व शिक्षकों ने स्कूल की सारी गतिविधियां ऑन लाइन कर यह दिखा दिया कि मन में यदि इच्छा हो तो सब कुछ हो सकता है हमने ऑन लाइन प्रवेश भी किए हमने यह सिद्ध कर दिया कि स्कूल केवल इंफ्रास्ट्रक्चर व भौतिक संसाधनों से ही नहीं बल्कि वर्चुअल भी चल सकता है कोरोना से पहले हम या अन्य कोई इस प्रकार के शिक्षण, परीक्षा व प्रवेश के बारे में सोच भी नहीं सकता था।

जो आज एक नया अनुभव हुआ कोरोना ने हमसे बहुत कुछ छीना लेकिन हमें अनेक अच्छे अनुभव भी दिए वर्चुअल स्कूल भी इसका एक उदाहरण है मैने अपने जीवन में कभी कविता नहीं लिखी थी लेकिन इस दौरान मैने स्टोरी मिरर पर 100 से ज्यादा कविताएं लिखी यह भी एक नया अनुभव मुझे हुआ अत में कह सकता हूं कि हर बुरा अनुभव भी हमें कुछ न कुछ नया सिखाता है अत कोरोंना ने भी हमें अनेक अनुभव दिए कई नई चीजें सिखाई कई नए आयाम हमें दिए यह मेरा अपना अनुभव है आपका अपना अलग अनुभव हो सकता है।


Rate this content
Log in

More hindi story from VIPIN KUMAR TYAGI

Similar hindi story from Inspirational