Anita Jain

Abstract


3.3  

Anita Jain

Abstract


इंद्रधनुष सी मैं चिरैया

इंद्रधनुष सी मैं चिरैया

1 min 21.8K 1 min 21.8K

इंद्रधनुष सी मैं चिरैया

 

सुन मोरे बाबुल , सुन मोरी मैया

थी इस आँगन की, मैं सोन चिरैया

 

नन्हे -नन्हे हाथों को थाम, लिखना पढना सिखाया

कर मज़बूत परों को हौंसलो से उड़ना सिखाया

 

 बेसहारा-असहाय लाचार थी मैं

किसी के गुनाह का अंज़ाम थी मैं

 

देवदूत बन, मेरे जीवन को प्राण-दान दिया

जनक से ज़्यादा मुझको प्यार-दुलार दिया

 

क्यूँ धी तुमने अपनी ब्याही, अब काहे ये रीत निभाई

कहे जग सारा, मैं हुई पराई पिया संग देखो, हुई विदाई

 

अभागी सी बेनूर, बेकुसूर लो, चली मैं सब से दूर डेरा है

भूली यादों का बसेरा है ज़िम्मेदारी ने अब मुझको घेरा है

 

कैसे सहूँ, जुदाई का रंग गहरा , सोच पे अब,ज़माने कापहरा है

पुकारे तेरी सोन -चिरैया, आँगन की खुशबू ले आ ओ पुरवैया!

 

आपसे महकी  मेरे जीवन की बगिया,

अगले जन्म मैंकोख से तेरी मैया ।

 

 

 


Rate this content
Log in

More hindi story from Anita Jain

Similar hindi story from Abstract