Sonnu Lamba

Tragedy


2  

Sonnu Lamba

Tragedy


अपने घर पर ही रहिए

अपने घर पर ही रहिए

1 min 80 1 min 80

सुबह से अपने प्रिय गायक मुकेश जी के एक गीत की

कुछ लाइनें लगातार मन में आये जा रही है 


"ऐसे वीराने में एक दिन

 घुट कर मर जायेंगें हम 

जितना चाहे पुकारो

 फिर नही आयेंगें हम"" 


ना ना, हम भारत के लोग नही गा रहे भाई इसको हम तो

अपने घरों में आराम से मजे में बैठे हैं "!

ये दर्द भरा गीत तो वायरस भाई साहब सूनी सड़कें,

सूने मॉल, सूने सिनेमा हॉल, देखकर गाता फिर रहा है !


इसलिए हमारी पूरी कोशिश यही रहे कि वही इसको गाये,

हमको कभी ये लाइनें ना गानी पड़े इसलिए। 


Rate this content
Log in

More hindi story from Sonnu Lamba

Similar hindi story from Tragedy