Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

यह कैसा घर है

यह कैसा घर है

1 min
325


कैसा घर है

सन्नाटा सा पसरा

रहता है।


एक अदद बूढ़ा जोड़ा

जिन्दा सा है अब तक

रहता है।


लौट काम-धंधे से

हर कोई शख़्श

बस अपने-अपने कमरे में

रहता है।


अरे शमशान में भी 

मुर्दा जले ना जब तक

चहल-पहल का माहौल 

रहता है।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract