Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Anushree Goswami

Classics

5.0  

Anushree Goswami

Classics

उम्र के इस पड़ाव पर

उम्र के इस पड़ाव पर

1 min
753


उम्र के इस पड़ाव पर,

कई सपने होते हैं आँखों में,

कुछ सपने पूरे हो जाते हैं,

कुछ पीछे छोड़ आते हैं हम !


न जाने कितने ही संसार को,

जी रहे होते हैं भीतर,

कितने सच्चे-झूठे ख्वाब,

सजा रहे होते हैं हम !


इस पल-पल बदलती दुनिया में,

कई किरदार निभाते हैं हम,

कई पुराने रिश्ते छूट जाते हैं,

कई नए रिश्ते बनाते हैं हम !


उम्र के इस पड़ाव पर,

बदल जाते हैं हम,

खुद को खोकर,

नए हो जाते हैं हम !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics