Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

नीलम पारीक

Drama


2  

नीलम पारीक

Drama


स्वर्णिम पल

स्वर्णिम पल

1 min 540 1 min 540

काश !

नौकरी में

तनख्वाह के साथ,


मिलते 

कुछ सुनहरे पल

तो चुपके से

चुरा लेती


पति के बटुए से

और रखती

 छुपा-छुपाकर


फ़िर करते खर्च

हम दोनों

साथ-साथ


जीते उन स्वर्णिम पलों को,

जब-जब होता मन

उदास या निराश

काश !


Rate this content
Log in

More hindi poem from नीलम पारीक

Similar hindi poem from Drama