Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Meera Ramnivas

Abstract


4  

Meera Ramnivas

Abstract


समय के साथ

समय के साथ

1 min 271 1 min 271

समय के साथ, 

गुम हुई,कुछ इच्छाऐं ,

उन्हें ढूंढ कर लाऐं ।

समय के साथ

सो गई कुछ आशाऐं

उन्हें थपकी देकर जगाऐं

ओझल हुए कुछ ख्वाब ,

उन्हें फिर आंखों में बसायें

समय के साथ ,

गुम हुआ जीवन से आनंद ,

करें फिर कुछ मनपसंद

और आनंदित हो जायें

कुछ नया सा करें

कुछ अटपटा करें ।

क्यों ना किसी दिन 

बच्चा बन जाऐं ।

बच्चों संग खेलें

हल्ला मचाऐं

या बैठ कर,

उपवन में ,

फूलों संग बतियायें

या

जोर से खुद को ही पुकारें

या शीशे में खुद को निहारें,

या

लिखें कोई कविता, 

कोई कहानी,

या कोई गीत गुनगुनायें ।

फिर से जीवंत हो जायें।।


         


Rate this content
Log in

More hindi poem from Meera Ramnivas

Similar hindi poem from Abstract