Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Ramashankar Roy

Inspirational


4  

Ramashankar Roy

Inspirational


सहयोग करो सहज जोड़ करो

सहयोग करो सहज जोड़ करो

1 min 239 1 min 239

सहयोग करो सहज जोड़ करो

आँकड़ा बढ़ता जाएगा

राष्ट्र बनता जाएगा ।।

एक प्रयास करें

जो भी करें बेहतर करें

सहयोग की सीमा नहीं

बेहतरी की परिभाषा नहीं

सही वक्त पर

पीठ खुजा देना भी

एक सहयोग है

घर के बाहर

अकेली सहमी बच्ची को

पारिवारिक सुरक्षा महसूस कराना भी

बेहतर समाज बनाना ही है

रास्ते से टूटा काँच हटा देना भी

सहयोग का ही निशान है

वृद्धाश्रम खोलना जरूरी नही

अनजान एकाकी दुखी असहाय

उम्रदराज के चेहरे पर

मुस्कान लौटना भी

पुत्र धर्म निभाना ही है

सहयोग करो सहज जोड़ करो ।

व्यवहार की कुची से

हँसती तस्वीर बनाओ

रोते बच्चे का

यह भी तरीका है

प्रेम दर्शाने का

देश का मान बढ़ाने का

सहयोग करो सहज जोड़ करो ।

व्यर्थ है यंत्रवत होड़

कुछ बन जाने का

समझ लो समझा लो

बने हो जिस काम के लिए

जो होना है होने दो

बनो न अवरोध बेहतर होने में

सहयोग करो सहज जोड़ करो ।

कठिन है सरल बनना

मैं बनकर तुम को समझना

सहज जोड़ का मंत्र समझो

बायाँ अंक मिटे तो मिट जाने दो

व्यथित कुंठित चिंतित मत हो

दाहिना अंक

ना घटे ना मिटे ना छूटे

सहयोग करो सहज जोड़ करो

आँकड़ा बढ़ता जाएगा

राष्ट्र बनता जाएगा ।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Ramashankar Roy

Similar hindi poem from Inspirational