Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Dr Shashi Shekhar Mishra Atin

Tragedy Classics Inspirational

4.7  

Dr Shashi Shekhar Mishra Atin

Tragedy Classics Inspirational

शहीदों नमन तुमको

शहीदों नमन तुमको

1 min
183


कर दिये हैं प्राण अर्पण अपने वतन को,

हम सभी करते हैं सादर नमन तुमको।

बढ़ रहा था चीन करने अतिक्रमण हमको,

भिड़ गये थे आप समर था अति भयंकर वो।


सिखा गये हैं आप सबक हम सबको,

पालो नहीं सांप कुचल डालो ड्रैगन को।

मत करो विश्वास विश्वसघाती के वचनों का

मित्र बनकर चीन ने सदा दिया है धोखा।


वार्ता के बहाने सदा ढ़ूढ़ता रहता है अवसर,

जमकर मारो इसे न जाने दो अब बचकर।

हमारे घर में घुस कर करता है वो दावा,

दिखा दो दुष्ट को अन्तस् का वह लावा ।


हे शहीदों तुम्हारा यह सबक अब हम नहीं भुलायेंगे,

मातृभूमि की रक्षार्थ तन मन धन सब समर्पित कर जायेंगे।

कलुषित मन वाले दुष्ट को सबक हम सिखायेंगे,

तभी आप सबका सही तर्पण हम कर पायेंगे।


किया है सर्वस्व समर्पण आपने राष्ट्र रक्षा को,

गूंज रही है जय गाथा तुम्हारी हे शहीदों नमन तुमको।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy