Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Zeba Rasheed

Abstract

4.3  

Zeba Rasheed

Abstract

रिश्तों की धूप

रिश्तों की धूप

1 min
395


अब

कैसे बचे हम

टूटे रिश्तों की धूप व बारिश से

कमज़ोर रिश्तों की बना ली

छतरियां हमने।

अपनों से जूदा होकर

बना ली

छोटी-छोटी टोलियाँ हमने


परिवार की पहचान खोकर

जिन्दगी के सफ़र में

रह गए अकेले हम

दुश्मनी के धुएं से

कैसै बचे अब हम।


परिवार के लिए

नहीं रखी अपनेपन की

खुली खिड़कियां हमने

बनकर स्वार्थी

बना ली

छोटी-छोटी

कश्तियां हमने


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract