End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

सीमा शर्मा पाठक

Abstract Inspirational


4  

सीमा शर्मा पाठक

Abstract Inspirational


रेत सी फिसलती जिंदगी

रेत सी फिसलती जिंदगी

1 min 353 1 min 353


अनगिनत ख्याल आंखों में सजे बैठे हैं

पूरे करूँ उनको सपने मुझसे ये कहते हैं

मगर जिंदगी है कि चलती जा रही है

रेत की तरह फिसलती जा रही है।


लब हर पल मुस्कराना चाहते हैं

दिल की बात अपने बताना चाहते हैं

खामोश निगाहें कुछ छिपा रही हैं

रेत सी जिंदगी फिसलती जा रही है।


धीरे -धीरे मैं भी शिव हो रही हूं

कतरा कतरा जहर पी रही हूँ

रिश्तों की डोर यूं संवर जा रही है

रेत सी जिंदगी फिसलती जा रही है।


अल्हड़पन, नादानियां बात हुई पुरानी

छूटी कहीं वो दादी नानी की कहानी

उम्र से पहले ही समझदार बना रही है

रेत सी जिंदगी फिसलती जा रही है।


याद आते हैं अक्सर दोस्ती के अफसाने

मुस्कराहट और खिलखिलाने के जमाने

उन लम्हों के लिए अब तरसा रही है

रेत सी जिंदगी फिसलती जा रही है।


करना है तो कुछ अच्छे कर्म कर ले

ऐ इंसान सबका दर्द तू समझ ले

कुदरत भी अब तो कहर ढा रही है

रेत सी जिंदगी फिसलती जा रही है।



Rate this content
Log in

More hindi poem from सीमा शर्मा पाठक

Similar hindi poem from Abstract