Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

Shalini Dikshit

Comedy


2  

Shalini Dikshit

Comedy


पानी बरसा

पानी बरसा

1 min 39 1 min 39

पानी बरसति देखि के हम

हरषाई गएन।


फिट हम तऊ दउरति

भीगाई गएन।


इधर उधर घूमति दउरति,

फिसला पैर चोटाई गएन।


जईसे तइसे फिर अपने

घरका गएन।


हुँआं फिर दुई रहपटा

गालप अपने पाई गएन।


जब सूजति पैर कुप्पा हुआ,

तब लगा हम हड्डी तोड़ाई भएन।


फिर चारि हफ्ता बिस्तर पर

हम सेवा सबसे कराई लिएन।


हम फिर भीगिब अगली बार

यहु न जानेऊ डेराइ गएन।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shalini Dikshit

Similar hindi poem from Comedy