Unveiling the Enchanting Journey of a 14-Year-Old & Discover Life's Secrets Through 'My Slice of Life'. Grab it NOW!!
Unveiling the Enchanting Journey of a 14-Year-Old & Discover Life's Secrets Through 'My Slice of Life'. Grab it NOW!!

मेरी प्रेम कवितायेँ

मेरी प्रेम कवितायेँ

1 min
135


अच्छा ये बताओ तुम 

कि तुम्हें अब भी मेरी 

प्रेम कविताओं में तुम 

नज़र नहीं आती क्या। 


अच्छा ये बताओ तुम 

क्या तुम्हें अब भी मेरे 

उन अनलिखे लिखे  

खाली पन्नों में मेरे,


दिल की सदा सुनाई 

नहीं देती क्या 

जिसमे मैंने खुद को 

तुम्हारे हाथों हार कर,


स्वीकारा था की “हाँ  

मुझे मुहब्बत है एक 

सिर्फ तुमसे बोलो क्या 

इसलिए तुम अब तक 

नहीं लांघ पायी हो उस,

  

घर की दीवारी को बस 

इतना ही बता दो तुम ! 


Rate this content
Log in

More hindi poem from S Ram Verma

Similar hindi poem from Romance