Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

GOPAL RAM DANSENA

Abstract Inspirational


3  

GOPAL RAM DANSENA

Abstract Inspirational


माँ बाप

माँ बाप

1 min 256 1 min 256

देर रात तक सिरहाने पर

दुआ मांगती रात रात भर

ढरते कपोल में अनमोल सुधा

फेरते हाथ मेरे सर पर सदा I

एक पवित्र आग में माँ ही जलती है I

जिसकी ममता जीवन भर चलती है I


तुम बेशक राम बन जाओ

दुनिया में रहमान बन जाओ

कठिनाइयों से छलांग निधि का

मिटा दो चाहे कपाल विधि का

बाप का पौरुष तुममें समाया है I

जिसने सपनों से तुमको बनाया है I 


Rate this content
Log in

More hindi poem from GOPAL RAM DANSENA

Similar hindi poem from Abstract