Read On the Go with our Latest e-Books. Click here
Read On the Go with our Latest e-Books. Click here

Divya Saxena

Romance


4.5  

Divya Saxena

Romance


Long distance love ❤️

Long distance love ❤️

2 mins 313 2 mins 313

Dear 

Long distance love,


एक गाना है जो अक्सर मैं गुन-गुनाया करती हूं,

जब तुम्हारी यादें मेरी शामों को,

कभी रुलाया तो कभी हसाया करती है।

Long distance relationship बहुत complicated होते है,

ऐसा अक्सर सुनने मैं आया करता था,

अब खुद की बारी आई है, तब ना जाने क्यूं एक डर सा है मन मैं,

की क्यूं बाते अब हमारे बीच कम हो गई है,

क्यूं अब शहरों की नहीं,

दिलों की दूरियां शायद बढ़ने लग गई है,

पर..........,

बाते तो अभी भी वैसी ही होती है,

जैसी हुआ करती थी, अब क्या कुछ अलग है,

दूरी बढ़ गई हैं,

दोनों के दरमिया या बात कुछ और है.....,

साथ तो बिल्कुल छोड़ना नहीं चाहती मैं तुम्हारा,

क्यूं की! मसला तो शहरों की दूरी का है,

ये जानती हूं मैं!!

इस लिए हमेशा कहती हूं, की!!!


"दूरियां ये शहरों की कभी ना,

दिलों की दूरियां बने...

मेरे दिल की धड़कने हमेशा

तेरी धड़कनों से जुड़ी रहे।"


वैसे ये सारी बाते मुझे तुमसे करनी है,

पर ....

आज कल हमारी बाते, कुछ पूरी नहीं होती, 

शायद! कुछ अधूरा सा है .....

अब ये अधूरा इश्क़,

मुझे फिर पूरा करना है,

और !

रिश्ता ये always or forever वाला,

शुरुआत से फिर जीना है .....।

और हां अब तन्हा बैठ कर हमारी यादों के साथ नहीं

तुम्हारे साथ मुझे ये गाना कुछ यूं गुन - गुनाना है।


"वफादारी की वो रस्में, निभायेंगे हम तुम कसमें

एक भी सांस जिन्दगी की, जब तक हो अपने बस में


दिल को मेरे हुआ यकीन, हम पहले भी मिले कहीं

सिलसिला ये सदियों का, कोई आज की बात नहीं.."


Rate this content
Log in

More hindi poem from Divya Saxena

Similar hindi poem from Romance