Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Pramila Singh

Abstract


3  

Pramila Singh

Abstract


कुर्बान हो गए

कुर्बान हो गए

1 min 36 1 min 36

वक्त के हाथों ना जाने कितने कुर्बान हो गए

जो कभी शानदार इमारत थे,खंडहर के निशान हो गए


वक्त के साथ लोग भी कितना बदल जाते हैं साहब

जो कभी मिलते थे मुस्करा कर आज अंजान हो गए


बहुत बेफिक्र होकर घुमा करते थे गलियों चौबारों में

वक्त ऐसा आया कि हम भी सावधान हो गए


जो दूसरों के साथ ज्यादतियां करते नहीं थकते थे

जब खुद को जरा खरोंच आई तो परेशान हो गए!


Rate this content
Log in

More hindi poem from Pramila Singh

Similar hindi poem from Abstract