Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Dr Mousumi Parida

Romance


2  

Dr Mousumi Parida

Romance


किस्से हम दोनों के

किस्से हम दोनों के

1 min 144 1 min 144


कभी धुंधला न हो जाए किस्से हमारे 

स्याही से लिखने को डरती हूं |

कागज में जीवन के तस्वीरें कैसे बनाऊं 

जलने या खो जाने से कतराती हूं |


आत्मा में तुम ही तुम रहते हो ,

कागज का टुकड़ा ज्यादा क्या बोलेगा !

उस पर लिखा जो नाम तुम्हारे 

कोई इसे न कभी मिटा पाएगा !



Rate this content
Log in

More hindi poem from Dr Mousumi Parida

Similar hindi poem from Romance